Wednesday, 31 May 2017

मुट्ठी से दरकता रेत सा जीवन


कभी न होगी जैसे अंधेरी शाम
जी रहे इस घर-आंगन में ऐसे,
जैसे हम यहाँ अजर-अमर-अविनाशी,
रहेगा हमेशा संग हमारे यह संसार, घर-परिवार,
संग कितने साथी सहचर शुभचिंतक, न होगा जैसे कभी अवसान।
इसी संग आज के राग-रंग, कल के सपने बुन रहे,
कभी न होगा वियोग-विछोह,
जी रहे ऐसे जैसे रहेंगे यहाँ हर हमेशा,
नहीं होगा अंत हमारा, न आएगी कभी अंधेरी शाम।
 संसार की चकाचौंध में मश्गूल कुछ ऐसे,
जैसे यही जीवन का आदि-अंत-सर्वस्व सार,
बुलंदियों के शिखर पर मदमस्त ऐसे,
चरणों की धूल जैसे यह सकल संसार।
लेकिन काल ने कब इंतजार किया किसी का,
लो आगया क्षण, भ्रम मारिचिका की जडों पर प्रहार,
क्षण में काफुर सकल खुमारी, फूट पड़ा भ्रम का गु्ब्बार,
उतरा कुछ बुखार मोह-ममता का, समझ में आया क्षणभंगुर संसार।
रहा होश कुछ दिन, शमशान वैराग्य कुछ पल,
फिर आगोश में लेता राग-रंग का खुमार,
मुट्ठी से दरकता फिर रेत सा जीवन,
                     होश के लिए अब अगले प्रहार का इंतजार।

Thursday, 25 May 2017

समग्र स्वास्थ्य और मीडिया




एक जागरुक मीडिया उपभोक्ता की भूमिका

स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता का अभाव - आज सिर्फ स्वास्थ्य के बारे में चर्चा पर्याप्त नहीं। समग्र स्वास्थ्य पर विचार आवश्यक हो गया है। क्योंकि हमारे समाज व देश में स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता का अभाव दिखता है। जब कोई बिमार पड़ता है, दैनिक जीवन पंगु हो जाता है, कामकाज पेरेलाइज हो जाता है, तब हम किसी डॉक्टर की शरण में जाते हैं। दवा-दारू लेकर ठीक हो जाते हैं और जिंदगी फिर पुराने ढर्रे पर लुढकने लगती है। अपने स्तर पर स्वास्थ्य के लिए प्रायः हम सचेष्ट नहीं पाए जाते।


स्वास्थ्य के प्रति पुरखों की गहरी समझ और समग्र सोच जबकि स्वास्थ्य के प्रति हमारे पुर्वजों की सोच बहुत गहरी और समग्र रही है। स्वस्थ्य की चर्चा में शरीर, मन और आत्मा हर स्तर पर विचार किया गया है। शरीर को जहाँ समस्त धर्म का आधार वताया गया (शरीरं खलु धर्म साधनम्) वहीं रोग के कारण के रुप में धी, धृति और स्मृति के भ्रंषक अधर्म आचरण को पाया गया। इसके साथ स्थूल स्तर पर वात-पित-कफ त्रिदोष का असंतुलन और मानसिक स्तर पर तम और रज गुणों की प्रधानता को पाया गया। तथा इसी के अनुरुप समग्र उपचार का विधान मिलता है।

आधुनिक स्वास्थ्य विज्ञान और समग्रता की ओर बढते कदम जबकि आधुनिक प्रचलित चिकित्सा विज्ञान स्वास्थ्य की अधूरी सोच लिए हुए है, जो व्यक्तित्व के घटकों को अलग-अलग मानने की गल्ती के कारण हैं। शरीर में किसी विकार होने पर इसे स्वतंत्र रुप से ठीक करने की कवायद शुरु हो जाती है, जिसके मनोवैज्ञानिक और आध्यात्मिक कारणों पर विचार नहीं किया जाता। शरीर और मन को अलग-अलग देखने का यह तरीका आधुनिक विज्ञान के अधूरेपन को दर्शाता है। हालाँकि अपने नवीनतम शोध निष्कर्षों के साथ यह साइकोसोमेटिक रोगों की चर्चा करने लगा है, जहाँ शरीर में पनप रहे रोगों के कारण मन की गहराइयों में खोजने की कोशिश की जाती है, जो समग्र स्वास्थ्य की दिशा में बढ़ रहे स्वागतयोग्य कदम हैं।


समग्र स्वास्थ्य समग्र स्वास्थ्य मनुष्य के व्यक्तित्व की विभिन्न इकाइयों को एक साथ लेकर समग्र रुप से विचार करता है। उसके शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक, भावनात्माक. आध्यात्मिक और सामाजिक आयामों पर विचार करता है। यह कौरा विचार नहीं जीवन शैली है, जिसके स्पष्ट मानक हैं। हम इसकी कसौटियों पर कसते हुए जाँच सकते हैं कि हम शारीरिक रुप से कितने फिट हैं, हमारा स्टेमिना-एंड्यूरेंस कैसा है। मानसिक स्तर पर संतुलन और मजबूती की स्थिति कैसी है। बौद्धिक स्तर पर सोच कितनी समग्र है, समझदारी व दूरदर्शिता के अंश कित मात्रा में हैं। भावनात्मक स्तर पर हम कितने परिवक्व, स्थिरता और संवेदनशील हैं। पारिवारिक-सामाजिक स्तर पर रिश्तों में कितने समस्वर, जिम्मेदार व सूझ लिए हुए हैं। और आध्यात्मिक स्तर पर कितने सरल-सहज, सकारात्मक (उदार-सहिष्णु) और आशावादी हैं।


जीवन शैली और वैकल्पिक चिकित्सा पद्वति के रुप में समग्र स्वास्थ्य को व्यक्तिगत स्तर पर आध्यात्मिक जीवन दृष्टि और यौगिक जीवन शैली के रुप में अपनाया जा सकता है। जिसके घटक हो सकते हैं आत्मबोध-तत्वबोध, आसन-प्राणायाम, स्वाध्याय-सतसंग, ध्यान-प्रार्थना और अनुशासित जीवनचर्या। रुगण होने पर इन वैकल्पिक चिकित्सा पद्वतियों का सहारा लिया जा सकता है प्राकृतिक चिकित्सा, पंचकर्म, यज्ञोपैथी, प्राणिक हीलिंग, वनौषधीय चिकित्सा, एक्यूप्रेशर, योगिक चिकित्सा, आध्यात्मिक परामर्श और मनोचिकित्सा आदि।


मीडिया की भूमिका मीडिया स्वास्थ्य के प्रति जनमानस को जागरुक करने का एक सशक्त माध्यम है। प्रिंट, इलैक्ट्रॉनिक, न्यूमीडिया आदि अपने अपने ढंग से इसके प्रचार में अपनी भूमिका निभाते रहते हैं। अखबारों मे नित्य स्तम्भ और साप्ताहिक परिशिष्टों में लेख आते रहते हैं। कुछ पत्रिकाएं स्वास्थ्य को लेकर चल रही हैं। हेल्थ, वेलवीइंग और अध्यात्म को लेकर कई चैनल चल रहे हैं। इंटरनेट पर प्रचुर सामग्री स्वास्थ्य को लेकर पड़ी हुई है।


मीडिया की सीमाएं अपने प्रभाव के बावजूद मीडिया की अपने सीमाएं हैं। सबसे पहले तो मीडिया से सेवा का भाव लुप्तप्रायः है। यह विशुद्ध रुप से एक व्यापार बन चुका है। फिर टीआरपी की दौड़ में, हिट्स की आपाधापी में नेगेटिवी से लेकर सनसनाहट इसेक अभिन्न हिस्सा बनते जा रहे हैं। फिर मीडिया का हमेशा यह बहाना रहता है कि पाठक-दर्शक में उत्कृष्ट सामग्री को देखने, सुनने, पढ़ने की माँग नहीं रहती। और अगर माँग रहती भी है तो ऐसा कंटेट हमें उपलब्ध नहीं होता। इस सबके बीच समग्र स्वास्थ्य का अभीप्सु एक जागरुक मीडिया उपभोक्ता के रुप में मीडिया की सीमाओं को समझ सकता है और अपना सार्थक योगदान दे सकता है।

एक जागरुक मीडिया यूजर के रुप में हमारी भूमिका हर मीडिया यूजर एक मीडिया संवाहक, संचारक की भूमिका में भी है। यदि वह जीवन के समग्र उत्कर्ष, समग्र स्वास्थ्य के प्रति सचेत है तो अपने निष्कर्षों को मीडिया के विभिन्न प्लेटफॉर्म पर शेयर कर सकता है। वह इन सुत्रों को ट्विटर या फेसबुक पर शेयर कर सकता है। एक लेख के रुप में अखबार या ब्लॉग में प्रकाशित कर सकता है। यदि सामग्री की वीडियो क्लिप या डॉक्यूमेंट्री हो तो फेसबुक, यूटयूब आदि पर शेयर हो सकती है। यदि सामग्री प्रचूर मात्रा में विविधता लिए हो तो अपनी साइट खोलकर व्यापक स्तर पर शेयर किया जा सकता है।

निष्कर्षतः देश की जनता को समग्र स्वास्थ्य के प्रति जागरुक करना समय की माँग है। सिर्फ रोगी होने पर ही स्वास्थ्य के प्रति सोचने की वजाए प्रोएक्टिव होकर में स्वास्थ्य के प्रति जागरुकत करने की जरुरत है। जिससे की हर नागरिक शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक, भावनात्मक, आध्यात्मिक और सामाजिक स्तर पर स्वास्थ्य के सुत्रों तो जीवनशैली में शुमार करते हुए एक स्वस्थ सुखी जीवन जी सके। इसी आधार पर स्वस्थ शरीर, स्वच्छ मन और सभ्य समाज की परिकल्पना साकार होगी। इसकी शुरुआत हमें स्वयं से करनी है। हम बदलेंगे युग बदलेगा, हम सुधरेंगे युग सुधरेगा का युगऋषि का मंत्र तभी सिद्ध-साकार होगा। (देसंविवि में सम्पन्न सेंट्रल हेल्थ सर्विसिज मेडिकल ऑफिसर्ज फॉउंडेशन ट्रेेनिंग प्रोग्राम के दौरान दिया गया उद्बोधन-26 मई 2017 )

Tuesday, 9 May 2017

यात्रा वृतांत - कुंजापुरी शक्तिपीठ





कुंजापुरी से नीरझरना, ट्रेकिंग एडवेंचर



कुंजापुरी ऋषिकेश क्षेत्र का एक कम प्रचलित किंतु स्वयं में एक अद्वितीय एवं दर्शनीय तीर्थ स्थल है। शक्ति उपासकों के लिए इस स्थान का विशेष महत्व है क्योंकि कुंजापुरी पहाडी के शिखर पर बसा यह शक्तिपीठ पौराणिक मान्यताओं के अनुसार 52 शक्तिपीठों में से एक है, जहाँ माता सती का छाती वाला हिस्सा गिरा था। कुंजा पहाडी के शिखर पर बसे इस तीर्थ का एकांत-शांत वातावरण, प्रकृति की गोद में शांति को तलाशते पथिकों के लिए एक आदर्श स्थान है। 



राह का प्राकृतिक सौंदर्य़ – 
यह स्थान ऋषिकेश से महज 25 किमी की दूरी पर स्थित है। नरेन्द्रनगर से होकर यहाँ का रास्ता हरे-भरे सघन जंगल से होकर जाता है, जिसके बीच यात्रा जैसे प्रकृति की गोद में शांति-सुकून का गहरा अहसास देती है। जैसे-जैसे सफर ऊपर बढ़ता है नीचे ऋषिकेश, गंगाजी व ऊधर जोलीग्रांट-देहरादून का विहंगमदृश्य क्रमशः स्पष्ट होने लगता है। आसपास पहाड़ियों पर बसे गाँव, उनके सीढ़ीदार खेत दूर से दिलकश नजारा पेश करते हैं। बरसात के बाद अगस्त-सितम्बर के माह में इस राह का नजारा अलग ही रहता है जब पग-पग पर झरने झरते मिलते हैं। नरेन्द्रनगर रास्ते का एक महत्वपूर्ण पड़ाव है, जो टिहरी के राजा का आवास स्थल रहा है। यहाँ का आनन्दा रिजोर्ट बड़ी हस्तियों के बीच खासा लोकप्रिय है, जिसके दूरदर्शन कुंजापुरी से सहज ही किए जा सकते हैं।

कुंजादेवी ट्रेकिंग मार्ग
चम्बा-उत्तरकाशी की ओर जाता मुख्य मार्ग से हिंडोलखाल स्टॉप से एक सड़क दाईं ओर मुडती है। यहाँ से 4 किमी अपने वाहन से कुंजापुरी तक जाया जा सकता है। दूसरा एडवेंचर प्रेमियों के लिए 3 किमी का ट्रेकिंग रुट है। जो हल्की चढ़ाई और घने बाँज के जंगलों से होकर जाता है। इसकी बीच ट्रेकिंग एक यादगार अनुभव रहती है। रास्ते में बंदर, लंगूर, जंगली पक्षी सुनसान के सहचर के रुप में मिलते रहते हैं। इस सीजन में हिंसालू(आंछा), किल्मोडे (शांभल), मेहो (शेगल) जैसे कांटेदार झाडियों व वृक्षों में लगे खटे-मीठे जंगली फल सहज ही रास्ते में यात्रियों का स्वागत करते हैं।
ट्रेकिंग मार्ग का रोमाँच
रास्ते में कहीं-कहीं बहुत ही संकरे मार्ग से आगे बढ़ना होता है, नीचे सीधे गहरी खाई के दर्शन नवांतुकों को सर चकराने का अनुभव दे सकते हैं। ऐसे में सारा ध्यान अपनी राह पर आगे व बढ़ते चरणों में नीचे की ओर रहे तो ठीक रहता है। साथ में लाठी इस रास्ते में बहुत बड़ा सहारा सावित होती है। बहुत तंग जगह पर दाएं हाथ से पहाड़ का सहारा लेकर आगे बढ़ना सुरक्षित रहता है। नीचे खाई की और देखने की भूल न करें। ट्रेकिंग रास्ते में इस तरह के 3-4 छोटे-छोटे पड़ाव आते हैं। दूसरा, ऐसे स्थानों पर अपना सेल्फी प्रेम दूर ही रखें, क्योंकि ऐसा प्रयोग मिसएडवेंचर सावित हो सकता है। बीच-बीच में विश्राम के शानदार ठिकाने बने हुए हैं। पत्थरों के आसन पर, बांज-देवदार के घनी छाया के नीचे कुछ पल बैठकर यहाँ रिचार्ज हो सकते हैं। रास्ते में घने बाँज के बनों के बीच बहती हवा के झौंके नेचुलर ऐ.सी. का काम करते हैं। पूरे रास्ते में ऐसे झौंके दोपहरी की गर्मी के बीच ट्रेकरों के रास्ते को सुकूनदायी बनाए रखते हैं।

 मंदिर परिसर में
आधा-पौना घंटे बाद यात्री पीछे की ओर से मंदिर परिसर में प्रवेश करते हैं। यहां मुख्य गेट पर प्रहरी के रुप में दो शेर स्वागत करते हैं। मंदिर में प्रणाम, पूर्जा अर्चन के बाद बाहर परिसर के खुले एवं साफ-सुथरे परिसर में भ्रमण आनन्ददायी रहता है। यहाँ से चारों ओर घाटी, पर्वत, चोटियों का विहंगम दृश्य यात्रियों को दूसरे लोक में विचरण की अनुभूति देता है। 1675 मीटर की ऊँचाई पर स्थित यह मंदिर इस क्षेत्र का सबसे ऊँचा स्थल है। यहाँ से नीचे दक्षिण की ओर ऋषिकेश, सुदूर हरिद्वार दक्षिण-पश्चिम की ओर जोलीग्रांट-देहरादून के दर्शन किए जा सकते हैं। 
 उत्तर में गढ़वाल के शिखरों के दर्शन साफ मौसम में सहज ही किए जा सकते हैं, जिनमें स्वर्गारोहण, बंदरपूँछ, चौखम्बा, गंगोत्री चोटियां प्रमुख हैं। यहाँ से इस क्षेत्र के अन्य दो शक्तिपीठ सुरकुण्डा और चंद्रवदनी के दर्शन भी किए जा सकते हैं, जो मिलकर एक शक्तिपीठों का दिव्य त्रिकोण बनाते हैं। यहाँ से नीलकण्ठ की पहाड़ियों सहज ही दर्शनीय हैं, जो यहाँ से काफी नीचे दीखती हैं।
यहाँ के परिसर में बने चबूतरे व इसके आसपास बने बेंचों पर बैठकर सहज ही हरपल वह रहे हवा के झौंकों का लुत्फ उठाया जा सकता है। यहाँ चाय-नाश्ता के लिए स्थानीय ढावा है। यहाँ के खुले व साफ परिसर में यात्री सुकून के पल विता सकता है, जो अन्य भीड़ भरे कंजेस्टेड तीर्थों में मुश्किल होता है। शहरों की भीड़ ते आजीज आ चुके तीर्थयात्रियों व प्रकृति प्रेमियों के लिए कुंजापूरी एक आदर्श स्थल है। यदि यहाँ प्रातः 7 बजे पहुंचने की व्यवस्था हो सके तो यहाँ के सूर्योदय का दर्शन एक यादगार अनुभव रहता है।

परिसर से बापसी का सीढीदार मार्ग
 यहाँ से बापसी मोटर मार्ग से हो सकती है। सड़क तक का रास्ता छत से ढकी लगभग 300 सीढियों से होकर जाता है। हर सीढ़ी में देवीसुक्त के मंत्र उत्कीर्ण हैं, जो इस यात्रा को विशेष बनाते हैं। श्रद्धालु इनका पाठ करते हुए सीढी का अवरोहण करते हैं। नीचे टैक्सी स्टेंड में भी चाय-नश्ते की कई दुकानें हैं। जहाँ से अपने बाहन से बापस आया जा सकता है। इसी रास्ते से सीधा बढ़ते हुए पुराने ट्रेकिंग मार्ग से नीचे हिंडोलखाल उतरा जा सकता है। जहाँ से चम्बा की ओर से आ रही बसों से सीधे ऋषिकेश पहुँचा जा सकता है।

गाँव से होता हुआ आगे का ट्रेकिंग मार्ग
ट्रेकिंग के इच्छुक रोमाँचप्रेमियों के लिए सडक के पहले मोड से वाइँ और नीचे की और जाते हुए पैदल मार्ग है, जो पटेर गांव से नीचे कच्ची सड़क तक पहुंचता है। यहाँ से एक सीधा मार्ग जंगल से होते हुए सीधे तपोवन पहुंचता है। जो 6 किमी लम्बा है। दूसरा ट्रेकिंग मार्ग वाइँ और से कोड़ाड, धारकोट व नीरगाँव से होकर बढ़ता है, जो कुल मिलाकर 15 किमी लम्बा है और अंत में नीरझरने से होकर नीचे ऋषिकेश-देवप्रयाग मुख्यमार्ग में निर्गड्डू पर मिलता है।
यह ट्रेकिंग मार्ग शांत वादियों से होकर गुजरता है। गांव के सीधे-सरल और मेहनती लोग यात्रा में अच्छे मार्गदर्शक और मेहमानवाज की भूमिका निभाते हैं। रास्ते में चाय व ठंडे के शौकीनों को रास्ते में निराश होना पड़ सकता है। रास्ता निर्जन है, कोई दुकान या ढावा नहीं है। नीरगाँव में आकर ही एक-दो दुकाने हैं, जहाँ ये जरुरतें पूरी की जा सकती हैं।

 नीरझरना ट्रेकिंग मार्ग
नीरगाँव से मोटर मार्ग से नीचे की ओर पैदल मार्ग नीर झरने की और बढ़ता है। गाँव के बीच से ही खेतों की मेड़ पर सीमेंट से बनी छोटी नहरें(कुल्ह) पानी को आगे प्रवाहित करती हैं। इसके कल-कल कर बहते जल की आबाज रास्ते के सफर में मिठास घोलती है। रास्ते में सीढ़ीदार खेतों में चाबल से लेकर अन्य फसलें देखी जा सकती हैं। हालांकि फल-सब्जी का चलन यहाँ नहीं दिखा, जो पानी की प्रचुरता के कारण सम्भव था। गांव के छोर पर नीचे नीर झरना आता है। अंतिम पढ़ाव गहरी उतराई से भरा है, जहाँ थके ट्रेकरों की कड़ी परीक्षा होती है। एक कदम फिसला कि गए सीधे खाई में। सामने झरना दो चरणों में नीचे गिरता है। उपर एक झील बनती है, फिर पानी नीचे दूसरी झील में गिरता है। यहाँ के निर्मल व शीतल जल में स्नान का लोभ शायद ही कोई संवरण कर पाए। इसमें डुबकी रास्ते की थकान को छूमंतर करती है। आसपास बने ढावों से मैगी चाय व नाश्ते का आनन्द उठाया जा सकता है।
यहाँ से नीचे आधा किमी भी छोटे छोटे झरनों से भरा है। जिसका यात्री पूरा लुत्फ उठा सकते हैं। कोई हरिद्वार-ऋषिकेश में आया यात्री कल्पना भी नहीं कर पाता कि यहाँ एक ऐसा प्राकृतिक झरने का खजाना भी छिपा हुआ है। ट्रेकिंग मार्ग नीचे आधा किमी बाद कच्ची सड़क से मिलता है। जो आगे लगभग 2 किमी के बाद निर्गड्डू में मुख्य मार्ग से मिलती है। जहाँ से तपोपन 1.5 किमी है। जहाँ से आटो टेक्सी आदि से यात्री ऋषिकेश बस स्टेंड होते हुए अपने गन्तव्य की ओर बढ़ सकते हैं।