Saturday, 14 January 2017

मेरा गाँव मेरा देश – बर्फ के संग विताए यादगार पल



प्रकृति की गर्माहट भरी गोद में बचपन की रुमानी यादें
प्रकृति की नीरवता के बीच आनन्द के पल - बर्फ के बारे में जब भी विचार करता हूँ, तो मन किसी दूसरे लोक में स्वर्गीय आनन्द की अनुभूतियों के संग विचरण करने लगता है। सहज ही याद आते हैं फुर-फुर गिरती बर्फ के अनगिन फाओं के बीच घर की खिड़की से आसमान को निहारता बचपन, बड़े-बुजुर्गों की गर्माहट भरी गोद में निर्द्न्द-निश्चिंत मासूम वालपन, उत्सव का रुप ले चुका घर-परिवार, गाँव-मुहल्ले का वातावरण, पूरे गाँव-घाटी में छाया सन्नाटा और नीरव शांति। प्रकृति जैसे कुछ पल, कुछ काल के लिए ठहर सी जाती; नीरव मौन के संग आत्मस्थ, ध्यानस्थ, समाधिस्थ। प्रकृति माँ की गोद में उसका हर प्राणी शिशुवत् मस्त, मग्न और आनन्द में डूबा हुआ प्रतीत होता। काम की सारी चिंताएं, जीवन के सारे तनाव-अवसाद, चित्त् के सकल विक्षोभ अंतर्ध्यान हो जाते। इन पलों की मस्ती का आलम शब्दों में वर्णन करना कठिन है। प्रकृति की नीरव शांति के बीच पक्षियों का कलरव इसमें नई मिठास घोलता। आज, बर्फ से दूर, प्रकृति के इस दिव्य उपहार के लिए आकूल जीवन का उत्तरार्ध, बचपन के बर्फ संग विताए पलों को याद कर संतोष कर लेता है व इसे पूर्व जन्मों के किन्हीं पुण्य कर्मों का प्रसाद मानता है।
इंतजार के पल और प्रकृति का उपहार - प्रायः बर्फवारी के पहले बारिश होती। तापमान जमाव बिंदु से नीचे गिरता। सामने की पहाड़ियों पर तो बर्फ यदा-कदा गिरती ही रहती थी। दूर पर्वत शिखरों पर व ऊँचाईयों पर बसे गाँव-घरों में बर्फ का नजारा कम दर्शनीय नहीं होता था। जब प्रातः की सुनहरी धूप बर्फीली चोटियों से होकर नीचे उतरती तो इसकी स्वर्णिम आभा पूरी घाटी को आलोकित करती। लेकिन घर के आस-पास के गाँव व निचली घाटी में कभी-कभी ही हिमपात होता। लगातार बारिश के बाद तापमान गिरने पर कभी भी बर्फ गिर सकती थी, इसका इंतजार रहता। प्रायः बर्फ रात को गिरती। सुबह बिना वताए अपने किसी आत्मीय परिजन की तरह सरप्राईज विजिट की तरह यह प्रकट हो जाती। सुबह उठते ही जब आँख खुलती, नजर खिड़की से बाहर पड़ती, तो घर-आंगन, खेत-खलियान, पेड़, छत्त व समूची घाटी बर्फ की सफेद चादर औढ़े दिखत। इसे निहारते ही एक अवर्णीय आनन्द की चैतन्यता छा जाती, पूरे तन मन व अंतरात्मा में इसकी लहर दौड़ पड़ती, जो पूरे परिवार में तरंगित हो उठती। बाल-बच्चे गर्म बिस्तर से कूद कर बाहर गिरी बर्फ के साथ खेलने दौड़ पड़ते।

बर्फ के बीच ठंड व गर्मी के पल - बड़े जहाँ बर्फ के बीच बाहर खेत में निकल पड़ते, बच्चे बर्फ के गोले बनाकर खेलने, एक दूसरे पर फैंकने और इनके तरह-तरह की आकृतियों को उकेरने में जुट जाते। यह खेल दिन भर चलता रहता। ठंड लगने पर घर में सुलग रहे तंदूर की शरण में आ जाते। मालूम हो कि ताजा बर्फ के बीच मौसम बहुत सम रहता है। आसमाँ में मंडराते बादलों के कारण व धरती को ढाँपी बर्फ इंसुलेशन का काम करते हैं। हवा का वहाव लगभग ठहर जाता है। ऐसे में सर्दी का अहसास न के बरावर रहता।
यह बात दूसरी है कि अगले दिनों मौसम साफ होने पर ठंड जमकर पड़ती है। आसमाँ का इंसूलेशन खत्म हो जाता है। तापमान जमाव बिंदु से नीचे होने के कारण चारों ओर जमीं बर्फ का नजारा पेश होता है। पानी की पाइपें जम जाती। आंगन में बने ऊखल (धान कूटने की पत्थर की पारम्परिक औखली) व नल के आसपास ठहरे पानी पर बर्फ की मोटी परत जम जाती। यहाँ तक की पेड़ की पतियों व घास एवं फसल पर औंस की परत जमीं रहती। धूप निकलने पर धीरे-धीरे इसके पिघलने का क्रम चलता।
बर्फ के बीच वन्य जीवन - जंगली पशु पक्षी भी बर्फ में अपने घोंसलों में दुबके रहते। भोजन की तलाश में इनकी आवाजाही के सुराग बर्फ पर इनके पंजों, खुरों के निशान के रुप में स्पष्ट दिखते। बालपन का शिकारी मन कोतुहल से भरकर इनका पीछा करता। मुख्यतः पेड़-पौधों के ऊपर बर्फ की मोटी परत जम जाती। ऐसे में भेड-बकरियों व गाय-बैल के लिए सूखे चारे से काम चलाना पड़ता। बर्फ कम होने पर ही शेगल, बॉन जैसे वृक्षों की हरी पत्तियों का चारा नसीब होता। पेड़ व झाडियों पर जमा बर्फ के गिरने की आबाज एक अलग नजारा पेश करती।
बंद कमरे में तंदूर की गर्माहट - जब बर्फ गिर रही होती तो दिन में आसमाँ को निहारते। ऐसे में बैठ-बैठे ही ऊपर उड़ने का अहसास होता। अंदर बंद कमरे में तंदूर (स्टील के गोलाकार या आयताकार बक्से) में आग लगातार सुलगती रहती। तंदूर के ऊपर पानी से भरा एक वर्तन लगातार जलता रहता, जिससे बीच-बीच में हॉट ड्रिंक की व्यवस्था होती रहती।
इसके साथ शकोरी (सूखे खुमानी, सेव आदि), अखरोट, गुढ़ को फाँकते रहते। गैंहूँ व मक्के को भूनकर बनी धाणा का अलग ही आनन्द रहता। बड़े-बुजुर्ग जहाँ ऊन की कताई व बुनाई में व्यस्त रहते, वाल-बच्चे बुजुर्गों को कथा सुनाने, पहेली बुझाने के लिए जोर लगाते रहते। बाहर छत में जमीँ बर्फ पिघलकर गिरती तो, इसकी टप-टप की आवाज का सुर अंतरमन में एक अलग ही आनन्द का रस घोलता।
बर्फ के साथ सेब का रिश्ता - पहाड़ी क्षेत्रों के लिए बर्फ वरदान से कम नहीं है। रवी की फसल के लिए बहुत ही उत्तम मानी जाती है। सेब के लिए तो यह निहायत जरुरत है। बागवान बेसव्री से इसका इंतजार करते हैं। इसे व्हाइट मेन्यूर तक कहा जाता है। इसके बिना सेब की वेहतरीन फसल की कल्पना नहीं की जा सकती। यह सेब के लिए आवश्यक चिलिंग आवर की जरुरत को पूरा करती है। मालूम हो कि सेब एक ऐसा पेड़ है, जिसे एक मौसम में 1200 से 1600 घंटे तक के चिलिंग आवर की जरुरत पड़ती है। इतनी हाड़ कपाँती, पानी को जमाने वाली ठंडे के बीच ही इसमें अच्छी पैदावार देने की क्षमता विकसित होती है। इससे कम में इसके फलों में वह स्वाद, रंग व गुणवत्ता नहीं आ पाती, जिसके लिए सेब जाना जाता है। स्नो फाल ही पहाड़ों में चिलिंग आवर की इस आवश्यकता को पूरा करने का माध्यम बनता है।

हालाँकि अत्यधिक बर्फ के अपने नुकसान भी हैं। बर्फीले तुफान से लेकर अवलांच (बर्फ के पहाड़ गिरना) आदि से हर साल जान-माल का भारी नुकसान होता है। जमीं बर्फ पर वाहनों का फिसना बहुत खतरनाकर होता है। लेकिन ईश्वर की कृपा से अभी तक हमारे बर्फ के साथ बचपन के अनुभव बहुत ही सुखद रहे। जब भी स्नोफाल की खबर को सुनते हैं, पढ़ते हैं व देखते हैं, तो सहज ही चित्त में जमीं गर्माहट ताजा हो जाती हैं। लगता है, काश हम भी वहाँ होते और बचपन की उन यादों को दुबारा ताजा करते।

No comments:

Post a Comment