Wednesday, 29 June 2016

परिस्थितियों का भार, प्रतिकूलताओं की मार

इन्हीं के बीच आशा का दीप जलाना होगा।